मायड़ भाषा

मायड़ भाषा

मायड़ भाषा लाड़ली, जन-जन कण्ठा हार । लाखां-लाखां मोल हे, गाओ मंगलाचार ।। वो दन बेगो आवसी ,देय मानता राज । पल-पल गास्यां गीतड़ा,दूणा होसी क...
Read More

पत्थर दिल हौंसले का दूसरा नाम चंद्रभान सिंह आख्या

लक्ष्य तय कर मंजिल को छूना और उससे भी बड़ी बात की उस पर बने रहना। आज के इस चहुं ओर भागती-दौड़ती एवं गलाकाट प्रतियोगिता से ग्रस्त दुनिया में...
Read More

पाती - मेवाड़ रें नाम

मेवाड़ री इण पावन वीर भौमका रे माथे जन्म लेवण वाळा सगळा मनखां ने घणे मान सूं राम-राम, सलाम, अर खम्मा घणी। इण आखी दुनिया रे मायने मेवाड़ ही ...
Read More

‘‘बलिदान से मेवाड़ की धरती आज भी दैदीप्यमान’’

कुँवर राजेन्द्र सिंह शेखावत, चित्तौड़गढ़ ’’अपने सतीत्व की रक्षा के लिये जौहर में अपने चंदन तन को होम करने वाली विरांगनाओं को, जिनका नाम इतिह...
Read More

विशाल अकादमी का वार्षिकोत्सव - बसन्त 2010 सम्पन्न

गत दिनों 27 जनवरी को विद्यालय के वार्षिकोत्सव के अवसर पर सांस्कृतिक कार्यक्रम बसन्त 2010 का आयोजन गणगौर गार्डन के रंगमंच पर आयोजित किया गया।...
Read More

जो राखे धर्म को, तिहिं राखे करतार

बहादुर सिंह सोनगरा, ठि. नामली चित्तौड़गढ़ के राणा उदयसिंह का मालवा के सुल्तान को शरण देने के कारण दिल्ली का बादशाह अकबर अप्रसन्न हो गया था औ...
Read More