चौथे स्तंभ के मान-सम्मान की रक्षा करना पत्रकार का पहला कर्तव्य

चित्तौड़गढ़। प्रदेश के सूचना एवं जन सम्पर्क निदेशक डॉ. अमर सिंह राठौड़ ने वर्तमान समय में पत्रकारिता को चुनौतिपूर्ण कर्म बताते हुए कहा कि इलेक्ट्रोनिक एवं प्रिन्ट मीडिया कर्मियों को अपने धर्म एवं कर्म की मर्यादा तथा विश्वसनीयता को अक्षुण्ण बनाए रखने के लिए दृढ़ संकल्पित होकर अपने कर्तव्य का निर्वहन करना चाहिए।
निदेशक डॉ. राठौड़ शनिवार को चितौड़ दुर्ग स्थित बिड़ला धर्मशाला के सभागार में हेरीटेज सिटी प्रेस क्लब की और से आयोजित पत्रकार कार्यशाला को मुख्य अतिथि वक्ता के रूप में सम्बोधित कर रहे थे। उन्होने कहा कि पत्रकारिता का कार्य बहुत जिम्मेदारी भरा होता है, क्योंकि पत्रकार समाज को सुधारने, उसमें चेतना जागृत करने तथा लोकतंत्र के मूल्यों को अक्षुण्ण रखने और मजबूत करने के दायित्व का निर्वहन करता है। इस सम्बन्ध में उन्हें गहनता से आत्मचिन्तन करने की आवश्यकता है।
डा. राठौड़ ने कहा कि मीडिया को लोकतंत्र के चौथे स्तम्भ के रूप में माना जाता है इसलिए इलेक्ट्रोनिक एवं प्रिन्ट मीडिया से जुड़े सभी मीडिया कर्मी इसके मान सम्मान और मर्यादा की रक्षा करने को अपना पहला कर्तव्य समझें और पत्रकारिता के स्वतंत्र मूल्यों और मानदण्डों को अपनाते हुए अपने कर्म का निष्पक्षता से निर्वहन करें।
उन्होने कहा कि श्रमजीवी पत्रकार समाज का पथ प्रदर्शन करने की महत्वपूर्ण भूमिका निभा रहे है। मीडिया कर्मियों को समाज को तथ्यात्मक सूचनाओं एवं घटनाओं की जानकारी देने के साथ-साथ देश में केन्द्र एवं राज्य सरकार द्वारा गरीबों, कमजोर वर्गो के उत्थान के लिए संचालित की जा रही विभिन्न योजनाओं एवं कार्यक्रमों की भी जानकारी मीडिया के माध्यम से जन-जन तक पहुंचाने का महत्वपूर्ण दायित्व निभाना चाहिए ताकि आमजन सरकार की लोक कल्याणकारी योजनाओं का अधिकाधिक लाभ उठा सकें। उन्होंने कहा कि पत्रकार समाज में व्याप्त रूढ़ियों को समाप्त करने तथा अशिक्षा को दूर करने हेतु सरकार द्वारा किये जा रहे प्रयासों को भी जन-जन तक पहुंचाने में महत्वपूर्ण भागीदारी निभाएं।
डॉ. राठौड़ ने मीडिया कर्मियों से पीत पत्रकारिता करने वाले पत्रकारों को अलग-थलग करने पर जोर देते हुए कहा कि पत्रकारों को संवेदनशीलता के साथ ऐसे समाचारों का प्रकाशन करना चाहिए जो प्रत्येक व्यक्ति, समुदाय, हर वर्ग, समाज एवं देश के लिए उपयोगी साबित हों। उन्होने कहा कि पत्रकार को तथ्यहीन समाचारों से बचना चाहिए बल्कि उसे संवेदनशीलता एवं विश्वसनीयता से पत्रकारिता के इकबाल को बुलन्द बनाने का प्रयास करना चाहिए। उन्होंने चरित्र को हमारी भारतीय संस्कृति का मुख्य तत्व बताते हुए कहा कि हमें तथ्यहीन समाचारों के आधार पर किसी व्यक्ति के सम्बन्ध में बिना सही तथ्य के चरित्र हनन जैसे समाचार प्रकाशित नही करने चाहिए क्योंकि किसी के बारे में उनकी कलम से लिखा गया समाचार सम्बन्धित व्यक्ति के जीवन पर अंकित हो जाता है।
निदेशक डॉ. राठौड़ ने समाचारों एवं समाचार पत्रों के प्रकाशन के सम्बन्ध में तकनीकी पहलुओं पर प्रकाश डालते हुए कहा कि समाचार का लेखन ऐसी सरल भाषा में होना चाहिए जिसे साक्षर से लगाकर विद्वान व्यक्ति तक आसानी से समझ सके। उन्होने समाचार की भाषा, शुद्धता, शब्दों, समाचार के चयन के सम्बन्ध में पत्राकार को विशेष ध्यान रखना चाहिए किन्तु इसके लिए मीडिया कर्म से जुड़े व्यक्तियों को नियमित लिखने पढ़ने की प्रवृति बनानी चाहिए। उन्होंने कहा कि मीडियाकर्मी को समाचार के एक-एक शब्द को बहुत सोच समझ कर लिखना चाहिए। उन्होंने कहा कि पत्रकार और सरकार दोनों का उद्देश्य जनहित में होता है । उन्होने कहा कि हमारे राज्य में पत्रकारिता का स्तर अन्य राज्यों की तुलना में श्रेष्ठ है जिसे मीडिया कर्मी अपनी लेखनी की विश्वसनीयता के आधार पर बनाए रखें।
कार्यशाला की अध्यक्षता करते हुए उदयपुर रेंज के पुलिस महानिरीक्षक टी.एल. मीणा ने कहा कि पत्रकार बहुत कम सुविधाओं में अपने कर्तव्य का निर्वहन करते हुए समाज का मार्गदर्शन करने की महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं। उन्होंने कहा कि पत्रकार सरकार की मंशा को जनता तक पहुंचाने जैसे महत्वपूर्ण कार्य को अंजाम देते हैं। उन्होंने कहा कि यह कार्यशाला पत्रकारों के लिए पत्रकारिता के गुर सीखने और उन्हें अपने कर्तव्य को और अधिक बेहतर तरीके से निर्वहन करने में सार्थक साबित होगी।
कार्यशाला को विशिष्ठ अतिथि के रूप में सम्बोधित करते हुए क्षेत्रीय विधायक सुरेन्द्र सिंह जाड़ावत ने कहा कि प्रिन्ट एवं इलेक्ट्रोेनिक मीडिया कर्मियों द्वारा लिखे गये एक-एक शब्द पर जनता अटूट विश्वास करती है, इसलिए यह कार्य बहुत ही जिम्मेदारी का है। उन्होंने कहा कि गर्मी के आगामी तीन माह बहुत ही कठिनाई के हैं इसलिए इस समय में मीडिया कर्मी सकारात्मक रूप से प्रशासन का सहयोग करें। उन्हांेने कहा कि गर्मी की स्थिति को देखते हुए उनके द्वारा मुख्यमंत्री से नरेगा के तहत चल रहे कार्यो का समय परिवर्तन करने का आग्रह किया गया था जिसके मद्देनजर

मुख्यमंत्री द्वारा नरेगा के कार्य का समय प्रातः 6 बजे से अपरान्ह 3 बजे तक किया गया है।
कार्यशाला में विशिष्ठ अतिथि के रूप में सम्बोधित करते हुए जिला कलेक्टर डा. आरूषी ए. मलिक ने कहा कि मीडिया कर्मियों के लिए तकनीकी जानकारी की दृष्टि से यह कार्यशाला बहुत उपयोगी रही है और इससे मीडिया कर्मी अपने दायित्वों का और अधिक बेहतर एवं जिम्मेदारी से निर्वहन कर सकेगें। विशिष्ठ अतिथि के रूप में सम्बोधित करते हुए पुलिस अधीक्षक डॉ. गिर्राज मीणा ने कहा कि हमारे देश में चौथे स्तम्भ के रूप में माना जाने वाला पत्रकार जगत जहां हमारे कार्यों की सफलता को चार चांद लगाता है वहीं कहीं कोई कमी रहने पर उसे उजाकर कर रास्ता दिखाने का प्रयास भी करता है। उन्होंने कहा कि जिले में मीडिया का पुलिस को हमेशा सकारात्मक सहयोग मिलता रहा है और आगे भी मिलता रहेगा।
प्रारंभ में मुख्य अतिथि वक्ता निदेशक डॉ. राठौड, पुलिस महानिरीक्षक श्री मीणा एवं पुलिस अधीक्ष डा. मीणा ने मां सरस्वती के चित्र पर माल्यार्पण कर दीप प्रज्वलन किया। कार्यशाला में मुख्य अतिथि वक्ता निदेशक डॉ. राठौड, पुलिस महानिरीक्षक श्री मीणा एवं पुलिस अधीक्षक डॉ. मीणा, भारतीय लघु एवं मध्यम समाचार पत्र संघ नई दिल्ली के वरिष्ठ उपाध्यक्ष एम.के. मोदी, जिला जार के अध्यक्ष ललित मेहरा, गौतम श्रीमाली का हेरीटेज सिटी प्रेस क्लब के अध्यक्ष अनिल जैन यती, संयोजक मनोहर अग्रवाल एवं अन्य पत्रकारों ने माल्यार्पण कर मेवाड़ी पगड़ी पहना, शाला ओढ़ा एवं स्मृति चिन्ह भेंट कर स्वागत किया। कार्यशाला में प्रसिद्वरचनाकार रमेश शर्मा ने काव्य रचना प्रस्तुत कर श्रोताओं को भाव विभोर किया। बालिका दिव्या जैन ने प्लास्टिक उन्मूलन के सम्बन्ध में अपनी प्रेरणादायी कविता प्रस्तुत की।
कार्यशाला के प्रारंभ में हेरीटेज सिटी प्रेस क्लब के अध्यक्ष श्री जैन यति ने अतिथियों एवं आगन्तुकों का स्वागत करते हुए प्रेस क्लब की स्थापना पर प्रकाश डालते हुए कार्यशाला के उद्देश्यों के बारे में जानकारी दी। अन्त में क्लब के संयोजक श्री अग्रवाल ने अतिथियों एवं आगन्तुकों के प्रति आभार व्यक्त किया। कार्यशाला का संचालन जे.पी. दशोरा एवं रमेश टेलर ने किया। कार्यशाला में पूर्व शिक्षा संयुक्त निदेशक श्याम सिंह मण्डलिया, अतिरिक्त मुख्य कार्यकारी अधिकारी सुनील कुमार झा, पूर्व जन सम्पर्क उप निदेशक नटवर त्रिपाठी, वरिष्ठ नागरिक मंच के अध्यक्ष नवरतन पटवारी, प्रो0 रधुनाथ सिंह मंत्री, राष्ट्रीय कवि अब्दुल जब्बार, गोपाल कृष्ण शर्मा, एस.वी.एस. त्यागी, हिन्दुस्तान जिंक के अविलास, आदित्य सीमेन्ट के पी.के. भारद्वाज, राजेश इनाणी, पार्षद सुरेन्द्र नाथ योगी, पूर्व पार्षद बाल मुकुन्द मालीवाल, सूचना एवं जन सम्पर्क सहायक निदेशक भीलवाड़ा श्याम सुन्दर शर्मा, उदयपुर के जिला सूचना एवं जन सम्पर्क अधिकारी महेश शर्मा, प्रतापगढ़ के सूचना एवं जन सम्पर्क अधिकारी रजनी कान्त शर्मा, उदयपुर, भीलवाड़ा एवं प्रतापगढ़ तथा जिले के इलेक्ट्रोनिक एवं प्रिन्ट मीडिया कर्मी, जन सम्पर्क कर्मी आदि उपस्थित थे।

Share on Google Plus

About amritwani.com

This is a short description in the author block about the author. You edit it by entering text in the "Biographical Info" field in the user admin panel.
    Blogger Comment
    Facebook Comment