पंचक्रोशी यात्रा को सफल बनाने में सभी की सहभागिता जरूरी-श्री बोरमुंडला, पंचक्रोशी यात्रा उप समिति की बैठक सम्पन्न

उज्जैन 25 अप्रैल। सिंहस्थ-2016 के दौरान आगामी एक से 6 मई तक आयोजित होने वाली पंचक्रोशी यात्रा में मालवा निमाड़ एवं राजस्थान के साथ ही सम्पूर्ण भारत तथा विदेश से लगभग पांच लाख से अधिक श्रद्धालु शामिल होंगे। इस यात्रा में शामिल होने वाले श्रद्धालुओं की सुविधाओं के लिये यात्रा व्यवस्थाओं में तैनात अधिकारी-कर्मचारी एवं उप समिति के सभी सदस्यगण अपना पूरा योगदान दें और समर्पित भाव से सेवक के रूप में कार्य करते हुए श्रद्धालुओं को बेहतर सुविधाएं उपलब्ध करायें। यह बात सिंहस्थ मेले के तहत गठित पंचक्रोशी यात्रा उप समिति के अध्यक्ष श्री बहादुरसिंह बोरमुंडला ने पंचक्रोशी यात्रा की तैयारियों की समीक्षा बैठक के दौरान कही। बैठक में उपाध्यक्ष श्री कमलसिंह एवं सदस्य सर्वश्री भंवरसिंह आंजना, लालसिंह भाटी, राजेश सोलंकी, रामसिंह जादौन, आनन्दसिंह आंजना, शोभाराम मालवीय, कमलसिंह पटेल, कैलाश बोडाना, कैलाश पांचाल, केशरसिंह पटेल, पंकजकुमार मोदी सहित सदस्यगण, जिला पंचायत सीईओ श्रीमती रूचिका चौहान, अपर कलेक्टर श्री वीरेन्द्रसिंह रावत एवं श्री अवधेश शर्मा भी उपस्थित थे। बैठक में बताया गया कि पंचक्रोशी यात्रा वैशाख कृष्ण की दशमी से प्रारम्भ होकर वैशाख मास की अमावस्या को समाप्त होगी। यात्रा एक मई से प्रारम्भ होगी। इस यात्रा में श्रद्धालु शिप्रा स्नान के पश्चात पटनी बाजार उज्जैन स्थित श्री नागचंद्रेश्वर मन्दिर से पूजन-अर्चन एवं बल प्राप्त कर यात्रा प्रारम्भ करते हैं। पंचक्रोशी यात्रा 118 किलो मीटर लम्बी होती है। यात्रा पश्चात् पुन: बल वापस लौटाने हेतु श्रद्धालु दर्शन के लिये आते हैं। जिला पंचायत सीईओ श्रीमती रूचिका चौहान ने अवगत कराया कि यात्रा के दौरान पिंगलेश्वर, कायावरोहणेश्वर, करोहन, नलवा, अंबोदिया, जैथल, उंडासा पड़ाव होते हुए नगर प्रवेश करेगी। पड़ाव स्थलों एवं उप पड़ाव स्थलों तथा यात्रा मार्ग पर श्रद्धालुओं के लिये स्नान हेतु प्लेटफार्म, अस्थायी शौचालयों, चेंजिंग रूम, पेयजल व्यवस्था, प्याऊ, छाया हेतु टेन्ट एवं दरी की व्यवस्था, प्रकाश व्यवस्था, साफ-सफाई व्यवस्था एवं अन्य आवश्यक व्यवस्थाएं सुनिश्चित कर दी गई हैं। बैठक में अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक


श्री अमरेन्द्रसिंह ने बताया कि सम्पूर्ण यात्रा मार्ग पर यात्रा के दौरान भीड़ प्रबंधन एवं सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम किये गये हैं। यात्रा मार्ग एवं पड़ाव स्थलों पर पुलिस बल की माकूल व्यवस्था की गई है। बैठक में सदस्यों ने बताया कि यात्रा का शुभारम्भ एक मई से होना तय है, लेकिन श्रद्धालु 29 अप्रैल से ही आना शुरू हो जायेंगे। श्री नागचंद्रेश्वर मन्दिर पर दो बड़ी स्क्रीन लगाई जायेगी, जहां श्रद्धालु सजीव दर्शन कर सकेंगे। समिति अध्यक्ष श्री बोरमुंडला ने श्री नागचंद्रेश्वर मन्दिर पर व्यवस्थाओं में सहयोग के लिये श्री केशरसिंह एवं श्री पंकज मोदी को तैनात करने की बात कही। ये सदस्य प्रशासनिक अधिकारियों से समन्वय कर व्यवस्थाओं में सहयोग करेंगे। उन्होंने कहा कि पड़ाव स्थल, उप पड़ाव स्थलों के लिये समितियां भी गठित की गई हैं, जो पंचक्रोशी यात्रा की व्यवस्थाओं में आवश्यक सहयोगी करेंगी। उन्होंने कहा कि पंचक्रोशी यात्रियों से सभी लोग अच्छा व्यवहार करें। हम उनके मददगार बनें। बैठक में सभी समिति सदस्यों ने अपील की कि पंचक्रोशी यात्रा पर आने वाले श्रद्धालु अपने साथ गहने, जेवर एवं ज्यादा नगदी आदि लेकर न आयें। सदस्यों ने पानबड़ोदिया व धतरावदा में अतिरिक्त पुलिस तैनात करने, मेन रोड क्रॉसिंग पर पुलिस की व्यवस्था करने, पड़ाव स्थलों पर महिलाओं के लिये चेंजिंग रूम बढ़ाने, सिद्धवट व मंगलनाथ पर यात्रियों के ठहरने हेतु छायादार व्यवस्था करने, शनि मन्दिर के पीछे खेतों में लाइट व्यवस्था कर श्रद्धालुओं के ठहरने की व्यवस्था करने का भी सुझाव दिया। बैठक में बताया गया कि ज्यादातर यात्री पैदल ही यात्रा करते हैं। इससे उनके जूते-चप्पल आदि टूट जाते हैं। उनकी मरम्मत के लिये विभिन्न स्थानों पर व्यवस्था रहेगी। बैठक में सदस्यों के सुझाव पर जिला पंचायत सीईओ ने कहा कि समिति सदस्य एवं अधिकारी यात्रा-पूर्व तैयारियों का जायजा लेने 27 अप्रैल को शाम 6 बजे रामघाट से श्री नागचंद्रेश्वर मन्दिर एवं गोपाल मन्दिर तक पैदल भ्रमण करेंगे। इसके पश्चात् 29 एवं 30 अप्रैल को भी समिति सदस्य एवं अधिकारी सम्पूर्ण यात्रा मार्ग एवं पड़ाव स्थलों का संयुक्त भ्रमण कर व्यवस्थाओं का जायजा लेंगे।
Share on Google Plus

About Eye Tech News

This is a short description in the author block about the author. You edit it by entering text in the "Biographical Info" field in the user admin panel.
    Blogger Comment
    Facebook Comment